Xossip

Go Back Xossip > Mirchi> Stories> Hindi > TRICK + CHAKRAVYUH + KATHPUTLEY ( COMPLETE ) VED PARKASH SHARMA SERIES

Reply Free Video Chat with Indian Girls
 
Thread Tools Search this Thread
  #41  
Old 22nd February 2016
kirank1994's Avatar
kirank1994 kirank1994 is offline
GUDIYA
 
Join Date: 14th September 2015
Posts: 78,090
Rep Power: 194 Points: 146617
kirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps database


Page no 127/287

"हैरी .... हैरी. . .मेरे यार ।" भावुक स्वर में कहने के साथ विकास उसकी तरफ़ लपका ।

"व. . .बिक्की ।"' कहते हुए हैरू कोशिश हैरी ने भी बिस्तर से उठने की की थी ।



" कोशिश क्यों?"


उठ ही जो गया था वह !



जख्मी होने के बावजूद वह विस्तर से खड़ा हो गया था । मगर, पल भर के लिए भी खड़ा न रह सका । एक गोली तो उसकी पिंडली में ही लगी थी । तड़खड़ाकर गिरने ही वाला था कि.. . ।



"अबे सभंलकर ।" विजय चीखा !



विकास ने लपकर अपनी बांहों में संभाल लिया था । बोता…"क्या' कर रहा है गधे ?"


पीड़ा को पीते हुए हैरी ने कहा…......“यार इतने दिन बाद सामने अाए और मैं उठकर स्वागत न करूं । ऐसा भला कैसे हो सकता है?"



"ज्यादा बहादुर बनने की कोशिश मत कर । लेट जा ।" विकास उसे वापस बिस्तर पर लिटाता हुआ बोला…" आर्मी बाले बता चुके हैँ…ब्रॉर्डर क्रॉस करते वक्त तू दुश्मन की दो गोलियां चबा गया !!!"



इस बार हैरी कुछ बोला नहीं, केवल मुस्कराकर रह गया ।



"बहुत ही बहादुर लड़का है ।" कर्नल की वर्दी पहने एक रीबीले _ व्यक्ति ने कहा ---- गोलियां निकलवाते ववत्त तक "एनीस्थिसिंया" लेने से इंकार कर दिया । बस एक ही धुन सवार थी इसके दिमाग पर । यह कि---मेरे यहाँ होने की सूचना विजय-विकास में से किसी को दे दो ।"



"और वहीं तुमने किया । विजय बोला ।



"करना पड़ा ।" कहने के साथ कर्नल हंसा ----"न करता तो यह इसी हालत में आर्मी हाँस्पिटल से भागकर सीधा आपके घर पहुच जाता ।"



विकास ने पूछा --- "क्या जाप हमे जानते थे !"


"राजनगर में ऐसा कौन है जिसने आप दोंनो का नाम न सुना हो?"



"सो तो है ।" विजय ने अपना सीना चौडा लिया-----“ओसामा विन लादेन से कम कुख्यात नहीं हैं हम ।"










Page no 128/287


"वेसे अमरीक सिंह ने इसके साथ भेजे अपने संदेश में कहा था-----"बेहोश होते वक्त इसने एक ही प्रार्थना की थी ----कि मुझे राजनगर में विजय-विकास के पास पहुंचा दिया जाए' मगर मैंने आप लोगों को इनफॉर्म करने से पहले इसके जिस्म से गोलियां निकालना मुनासिब समझा ।"



"लेकिन हैरी ।" विकास ने पूछा----“तू पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में पहुंच कैसे क्या?"



"खुद नहीं पहुचा । पहुंचाया गया था ।"


"किसने पहुंचाया ?"

हैरी ने जवाब देने के स्थान पर कर्नल की तरफ देखा । कहा ---- "कर्नल साहब, क्या आप कुछ देर के लिए हमें अकेला छोड सकते हैं?”


" ओह !" कर्नल हंसा…'शायद तुम अपने दोस्त से कोई प्राइवेट बात करना चाहते हो ।"


"आप समझदार है ।"


"ओके ।" कहने के साथ यह मुस्कराया । मुड़ा और अपने भारी बूटों से ठक-ठक की अावाज करता हुआ कमरे से बाहर निकल गया ।




"अब बताओ प्यारे ।" विजय ने कहा --- “ किस्सा क्या है?"


" विक्की ।" हैरी ने विकास से कहा -----कमरे का दरवाजा ही नहीं, सारी खिड़कियां भी बंद कर दो।"


"ऐसा क्या बताने वाले हो तुम?"



"बताता हूं । पहले वह करों जो कहा है ।"


विकास ने बैसा ही किया । उधर उसने अंतिम खिडकी बंद की इधर विजय ने कहा ---- “अब ज्यादा सस्पेंस बनाकर हमारी खोपडी फोड़ने की कोशिश मत करों प्यारे, जल्दी से बताओ----तुम अमेरिका से कूदकर आजाद कश्मीर में कैसे पहुच जाए?"



“मुझे वहां पहुचाने बालों के नाम नुसरत-तुगलक हैं ।"


"वे नमूने?” दोनों के मुह से एक साथ निक्ला, फिर विकास ने पूछा -----" वे तुम्हें कहाँ टकरा गए? "


"अमेरिका ही में ।"


"वहां क्या कर रहे थे वे?"



"वे वहां मुझे कंसाने के उदूदेश्य से ही आए थे ।"



"कारण ?"










Page no 129




"उस वक्त नहीं जानता था मगर अब जानता हूं !


"बता दो ।"


पहले यह बताता हू कि उन्होंने मुझे फंसाया किस तरह ।" कहने के बाद हेरी ने एक लंबी सांस ती । कुछ इस तरह जैसे अगली एक ही सांस में सबकुछ बताने का निश्चय किया हो और फिर, सचमुच एक ही सांस में वह खुद के नुसरत-तुगलक के चंगुल में फंसने का किस्सा बयान करता चला गया । अपने बेहोश होने तक की बात पूरी करने के बाद दूसरी सांस में बोला----" उस वक्त मैं नहीं समझ पाया था कि उन्होंने वह सब क्यों किया । होश में अाने पर खुद को एक सीलन भरी छोटी-सी कोठरी में कैद पाया । मैं पाकिस्तानी सैनिको की देखरेख में था । उसी कैद में रहते, उन्हीं की बातों से धीरे-घीरे पता लगा----मैं आजाद कश्मीर में था और नुसरत-तुगलक ने मुझे वहां इसलिए पहुंचाया था क्योंकि उनके ख्याल से मैं उनकी साजिश के बोरे में जान के गया था ।"


"उनके ख्याल से, का क्या मतलब हुआ?"


"असल से मैं वह जानता ही नहीं था जिसके वारे में उन्हें भर्म हो गया था कि मैं जान गया हूं !"



"बडी पेचदार बाते कर रहे हो हैरी प्यारे , खोपड्री में कुछ घुसकर ही नहीं दे रहा ।"


"मेरे नुसरत तुगलक के चंगुल में फंसने से करीब दस मिनट पहले मेरे चीफ ने मुझे एक काम सौंपा था कहा था ----"एक सुचना के मुताबिक आज रात आठ बजे 'केलीबर' बार में एक तालिबान एक अाई-एस-अाई के जासूस से मिलने वाला है । तुम्हें उन दोनों को गिरफ्तार करके सीकरेट सर्विस के आँफिस में लाना ।" उसे छोटा-सा काम समझकर मैं केलीबर बार पहुचा । उस वक्त वे आपस में बाते कर रहे थे । मेरे कानों में तालिबान का केवल एक ही वाक्य पड़ा । वह आई-एस-आई के जासूस से कह रहा था --- 'अफगानिस्तान से "मारकेश' चल चुका है उस शख्स का नाम मारकेश' पड़ा ही इसलिए ही इसलिये क्योंकि जिसे वह मारने निकलता है वह बच नहीं सकता । जवाब में कुछ कहने के लिए आई-एस-आई के जासूस ने मुह खोला ही था कि रिवॉल्वर ताने उनके सिरों पर जा धमका । जाहिर है---- वे दोनों भौंचक्के रह गए । अाई-एस-अाई के जासूस का मुंह तो खुला का खुला ही रह गया था । मेरा उददेश्य उनकी बाते सुनना नहीं बल्कि केवल गिरफ्तार करके सीक्रेट सर्विस के आँफिस में ले जाना था !







Page no 130 /287



सो , सीधे-सीधे रिवॉल्वर उनकी तरफ तानकर हाथ ऊपर उठाने का हुक्म दिया । हाथ ऊपर उठाते--उठाते उन पटूठो ने अचानक ऐसी हरकत कर डाली जिसकी मैँ स्वप्न में कल्पना नहीं कर सकता था ।"


"क्या किया उन्होंने?"

दोंनों ने अपनी-अपनी जेबों से रिवॉल्वर निकालकर एक दूसरे को गोली मार दी ।"


"अरे ये क्या बात हुई?”


"वही तो ।" हैरी बोला ----"मेरा तो दिमाग ही चकराकर रह गया था उस वक्त । जैसे ही हाथ उठाने के बीच उन्होंने हरकत की यानी अपने हाथ जेबों की तरफ बढाए, मुझे लगा मुझ पर हमला करने वाले हैं । मैंने फुर्ती से खुद को बचाने के लिए एक पिलर के पीछे जम्प लगाई मगर नहीं, उन्होंने मुझ पर हमला करने की कोई कोशिश नहीं की थी बल्कि एक दूसरे को मार डाला था । जव तक मैं पिलर के पीछे से वापस जम्प लगाकर उनके नजदीक पहुचा तब तक दोनो लाश में तब्दील हो चुके थे । यह रिपोर्ट जब सीर्केट सर्विस के आँफिस में पहुंचकर चीफ को दी तो कुछ देर तक तो वे भी सन्न से रह गए । जैसे कुछ समझ न पाए हो कुछ देर सोचते रहने के बाद बोले---"लगता है उनके पास कोई बहुत ही अहम इनफॉरमेशन थी । उन्हें डर हुआ होगा, इसलिए एक दूसरे को खत्म कर दिया । इसका मतलब वे आत्मधाती के दस्ते के लोग थे । वे ऐसा वे ही करते हैं ।"


जवाब में मैंने भी बस इतना ही कहा---" ऐसा ही लगता है सर ।"


चीफ ने कहा----‘काश हम जान सकते कि उनके पास क्या इनफोरमेशन थी । क्या तुमने उनके बीच होने वाली बाते सुनी थीं?' मैं बोला-----" ऐसी कोई कोशिश मैंने इसलिए नहीं की क्योकिं आपने ऐसा कुछ करने के लिए कहा ही नहीं था । मैंने तो पहुंचते ही उन्हें गिरफ्तार करने की केशिश शुरू कर दी थी । उनके बीच का केवल एक ही वाक्य सुन सका ।’


चीफ ने पूछा-"वह वाक्य क्या था ?"


मैंने बता दिया ।


सुनकर वे बोले-----'ओह !' इसका मतलब जल्दी ही विश्व की वड़ी हस्ती का कत्ल होने वाला है ।

मैंने चौंक कर पूछा'--"क्या मतलब सर?


उन्होंने बताया-'मारकेश ओसामा विन लादेन के मारक दस्ते के सबसे ज्यादा खतरनाक और कामयाब शख्स को कहते है । उसका असली नाम 'अताउल्ला' है मगर इस असली नाम को लगभग सभी भूल चुके हैं । उसके इस नए नाम के पीछे कारण है----वह जब भी, जिसे भी मारने निकला उसे मार ही डाला !










Page no 131/287


उसका शिकार कभी भी कोई छोटी-मोटी हस्ती नहीं होती । लादेन उसे अपनी मांद से निकालता ही तब है जब उसे दुनिया की किसी बडी हस्ती को खत्म करना होता है । तालिबान ने आईं-एस-आई के जासूस से जो कुछ कहा उससे जाहिर हे----मारकेश अपने किसी ताजा टारगेट की तरफ बढ़ चुका है । अफसोस-तुम यह नहीं जान सके कि अफगानिस्तान से निकले मारकेश की मंजिल क्या है । अब उन दोनों के द्वारा एक-दूसरे को मार डालने का कारण साफ-साफ नजर या रहा है । जाहिर है उन्हें मारकेश के टारगेट के बोरे में मालूम था वे किसी भी सूरत में अपनी इस जानकारी को उगलना नहीं चाहते थे । उन्हें डर हुआ होगा---- अगर वे तुम्हारे चंगुल में फंस गए तो मुमकिन है तुम उनका मुंह खुलवा तो । सो, एक-दूसरे को खत्म कर दिया ।' बात मेरी भी समझ में आ चुकी थी मगर आगे बढने का न मेरे पास कोई रास्ता था, न ही शायद चीफ के पास । अंतत: उन्होंने केवल इतना ही कहा- कि ---" खैर , हम मारकेश की मंजिल और टारगेट का पता लगाने की कोशिश करेगे । " उसके बाद मैं सीक्रेट सर्विस के आँफिस से वापस आ गया । बता ही चुका हूँ--यह घटना नुसरत-तुगलक के जाल में फांसने की घटना से दस दिन पुरानी है । कम से कम उस दिन यह घटना मेरी स्मृति पटल पर दूर-दूर तक नहीं थी जिस दिन मैं क्रिस्टी के साथ है "रेड लेबल' में बैठा था ।"



"पर उस घटना का तुम्हारी किडनैप होने से क्या संबंध है?"



" वही बता रहा हू।” हैरी ने कहा----" कैद में रहते हुए अपने पहरेदार पाक सैनिकों की आपसी बातचीत से पता लगा--- -तुगलक को यह वहम हो गया था कि मैंने तालिबान और आई.एस.आई. के जाजूस के बीच होने वाली बाते सुन ली थी और मैं मारकेश का टारगेट जान गया था, इसलिए मुझे जाल में उलझाकर किडनैप किया गया । जबकि मारकेश के टारगेट का पता तो मुझे उन्हीं पहेरेदारों की बेवकूफी भरी बातों से बाद में पता लगा ।"


"कौन है उसका टारगेट ?" व्यग्रता पूर्वक दोनो ने एक साथ पूछा ।

"तुम्हारे प्रधानमंतरी"

"क. . क्या?" विजय-विकस उछल पड़े ।



" वे शायद निकट भविष्य में पाकिस्तान यात्रा पर जाने वाले है ।"


"हां ।" विजय ने कहा…"है तो सही ऐसा ।"

"मारकेश लाहोर में उन पर हमला करेगा ।"






Page no 132 / 287



“ओह" विजय जैसे शख्स की चुहलबाजियां जाने कहाँ गायब हो गई । चिंता की लकीरें उभर अाई थी उसकी-पेशानी पर । विकास ने अपने गुरू को ऐसी अवस्था में बहुत कम मोको पर देखा था । फिर भी विजय खुदको काफी जल्दी नियंत्रित करके कहा ----…"तुप तो वाकई अपने कलेजे में अणुबम से भी कहीं ज्यादा विस्फोटक जानकारी दबाए घूम ऱहे हो हैरी प्यारे ।"



"जिस क्षण मुझे मारकेश के टारगेट का पता लगा उसी क्षण से उस कैद से निकलने के लिए छटपटा रहा था । मौका मिलते ही भाग निकला । जान ही चुका था----मैँ अाजाद कश्मीर में हूं । लक्ष्य था तुम्हारे पास पहुंचना । नहीं मालूम था कामयाब हो सकूंगा या नहीं । भगवान का लाख-लाख शुक्र है कि मैं यहाँ पहुच गया ।"



"लाहोर में मारकेश कब, कहां और कैसे हमला करने वाला है ।"


" नहीं मालूम ।"


"मतलब ?"


"में केवल यह बता सकता हू जो पाकिस्तानी सैनिकों की बातचीत से पता लगा । यह भी नहीं कह सकता जो बाते वे करते थे उनमें कितनी सच्चाई है । आम चर्चा बस उनके बीच यही थी------ " हिन्दुस्तानी प्राइम मिनिस्टर लाहौर से वापस नहीं जा सकेगा! वह मारकेश के निशाने पर है । मारकैश कहां है, वह कब, कैसे और कहां क्या करेगा इस बात का शायद उन्हें भी कुछ पता नहीं था ।"




"ऐसा तुम कैसे कह सकते हो?"



"क्योंकि वे आपस में ही कयास लगाते रहते थे कि माऱकेश ये करेगा, वो करेगा ।”



“ओह" विजय थोड़ा गम्भीर जरूर नजर जा रहा था मगर पेशानी से चिंता की लकीरें गायब हो थी । कुछ देर जाने क्या सोचते रहने के बाद बोला----"और हैरी प्यारे, समय रहते हमें इतनी जबरदस्त इनफॉरमेशन देने के लिए तुम्हारा बहुत-वहुत शुक्रिया । वाकई तुमने अपनी जान पर खेलकर हिन्दुस्तान पर बहुत बड़ा उपकार किया है । अब तुम आराम करो, अब हम फुटाश की गोली लेते है !"



"मेरे ख्याल से अब आप पाकिस्तान जाएंगे ।"


"अमी तो खुद हमे ही नहीं मालूम प्यारे कि बक्त हमसे क्या कराने बाला है ।"












Page no 133 / 287




"इतना बुद्धू नही हूं अंकल ।"' हेरी मुस्कराया-----" समझ सकता हूं इतना सब कुछ जानने के बाद ऐसा हो ही नहीं सकता कि आपका टारगेट वह न वन जाए जिसका टारगेट आपके देश के प्राइम मिनिस्टर हैं और उसके लिए आपकी पाकिस्तान बल्कि लाहौर जाना होगा। कहना केवल यह चाहता है इस मिशन में मुझे भी आप अपने साथ ही पाएंगे ।"


"तुम अभी जख्मी हो प्यारे, आराम करो । हम और दिलजला काफी होंगे ।"


"विकास जानता है, हैरी को ये जख्म रोक नहीं सकते ।"


"फिर भी ।” विकास ने कहा'-“गुरु ठीक कह रहे है हैरी, मारकेश जैसे चिल्लर से निपटने के लिए हम दोनों काफी. .. ।"


" नहीं वि्क्की नहीं ।" अचानक हैरी का चेहरा लगा --" ये जख्म मुझे बेड से बांधकर नहीं रख सकते । मैं यह भी जानता हूं ---- " तुम दोनों तो क्या, मारकेश के लिए हम तीनों में से कोई एक ही काफी मगर. .. ।"


"मगर ?"


"ऐक गोली मे भी अपने हाथों से उस हरामजादे के जिस्म में उतारना चाहुंगा ।"


" पर प्यारे, इस मामले में तुम इतने सेंटीमेंटल क्यों हो रहे हो?"


'क्योकि मैंने वर्ल्ड हैड सेटर और पेंटागन में होने वाली तबाही को अपनी आँखों से देखा है ।"


"ओह "



विजय की 'ओह' पर जरा भी ध्यान दिए बगेर जुनूनी अवस्था में हैरी कहता चला गया…“मेरे मुल्क की शान समझे जाने वाली इमारत पलक झपकते ही जमीन के अंदर की गई । हजारों बेकसूर और मासूम लोग मारे गए । मैं कैसे भूल सकता हू अंकल । कोई भी अमेरिकी उस होलनाक मंजर को कैसे भूल सकता है । वह सब भी उसी के चेलों ने किया था जिसका चेला मारकेश है । उसके सीने में आग भरकर मुझे सुकून मिलेगा । जिसने आज अपना टारगेट भारत के प्रधानमंत्री को बनाया है कल उसके निशाने पर अमेरिका का राष्ट्रपति भी हो सकता है, इसलिए........।

" "'रिलेक्स प्यारे, रिलेक्स !" कहने के साथ विजय ने उसके कंघे पर हाथ रखा ।



Last edited by kirank1994 : 22nd March 2016 at 10:57 PM.

Reply With Quote
  #42  
Old 22nd February 2016
kirank1994's Avatar
kirank1994 kirank1994 is offline
GUDIYA
 
Join Date: 14th September 2015
Posts: 78,090
Rep Power: 194 Points: 146617
kirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps database

Page no 134 /287



"शर्म अानी चाहिए नुसरत मियां ।" तुगलक कह रहा था----- "शर्म आनी चाहिए तुम्हें ।"




"म........मुझे?" नुसरत चिहुंका------"मुझे क्यों?"



"क्योकि तुम भी उसी देश के वासी हो जिसके ये है? ये । कहने के साथ तुगलक ने मेज के पीछे पड़ी चेयर पर बैठे शख्स की तरफ़ इशारा किया---- "इन्हें हमने एक छोटा-सा बल्कि बहुत ही नन्हा-सा काम सौंपा था मगर ये उसे भी ठीक से अंजाम नहीं दे सके । सारा गुड़ गोबर कर दिया ।"



"गुड गोबर इन्होंने- किया है । शर्म इन्हें आनी चाहिए । मुझे क्यों लपेट रहे हो ?"



"बताया तो है---- " तुम्हें इसलिए लपेट रहा है क्योंकि तुम भी उसी देश क वासी हो जिसके ये…"


" उस हिसाब से तो शर्म तुम्हें भी अानी चाहिए ।" नुसरत ने तुगलक की बात काटकर कहा --- "क्योंकी तुम्हारी मां ने भी तुम्हें उसी देश की धरती पर पटका था जिस पर हम दोनों पटके गए थे ।"



"आ रही है । मुझे भी शर्म अा रही है ।"


“तो अभी लाता दूं ।" कहने के साथ नुसरत एक झटके के साथ कुर्सी से उठा ।


तुगलक ने पूछा…“क्या लेने चली ?''


"चुल्लू भर पानी ।"


"इरादा ठीक है तुम्हारा । हमे भी उसी में डूबकर मर जाना चाहिए मगर ये ।" एक बार फिर तुगलक ने चेयर पर बैठे शख्स की तरफ़ इशारा किया----- " ये ऐसा नहीं करेगे !! दुनिया के सबसे महान मुल्क की सबसे महान जासूसी संस्था आई-एस-आई के चीफ जो ठहरे !"


" प्लीज ..........प्लीज मिस्टर नुसरत- तुगलक ।" चेयर पर बैठे शख्स ने अपने चेहरे पर वेदना लिए कहा ----- पहले ही बहुत शर्मिन्दा हूँ और ज्यादा शर्मिन्दा न करें ।"


" अगर तुम और ज्यादा शर्मिन्दा हो गए तो अपना बिगाड क्या बिगाड़ लोगे ?"


" म....म......मैं अपने पद से इस्तीफा देने के लिए तैयार हूं ।" खुद को जलील महसूस कर रहे शख्स ने ज़ज्जाती लहजे में कहा ।










Page no 135/ 287





" और तुम्हारे इस्तीफा देने से इस महान मुल्क का जो नुकसान हुआ है यह पूरा हो जाएगा ?"

नुसरत बोला-""वापस कैद में लोट आएगा छटंकी नम्बर दो !"

"लौट भी आया तो अब क्या आचार डालेंगे हम उसका या मुरब्बा बनाकर चाटेंगे?" तुगलक ने कहा---"जो नुकसान वह हमारा कर सकता था, वह कर चुका होगा । विजय-विकास के सामने पूरा कर चुका होगा इस जानकारी को कि लाहोर में मारकेश उनके प्रधानमंत्री का तीया-पांचा करने वाला है ओर उनके सामने यह जानकारी 'पूरने' का मतलब है-हमरे और मारकेश के लिए अव यह काम जन्नत तक सीढी लगाकर चढ़ने जितना मुश्किल हो जाएगा । ऐसे में अगर उन्होंने अपने प्रधानमंत्री की पाकिस्तान यात्रा रद्द कर दी तो हमारी भद्द पिट - जाएगी है !



"मेरे ख्याल से हमारी इतनी ही भद्द नहीं पिटेगी तुगलक भाई ।" नुसरत ने कहा ।


तुगलकं ने पूछा…"और कितनी पिटेगी नुसरत बहन?"



"इससे कहीं ज्यादा । मुझे पूरा यकीन है-बो जोकर भले ही अपने प्रधानमंत्री का पाकिस्तान दौरा रद्द करने की कोशिश को मगर छटंकी नम्बर वन मामले करे यहीं खत्म नहीं होने देगा । दो जरा टेढ़ा है । उसकी कोशिश होगी---- " अपने प्रधानमंत्री को पाकिस्तान की सैर कराकर वापस सुरक्षित हिन्दुस्तान ले जाना । ऐसा हो गया तो वह सारी जिंदगी हमेँ ठेंगा दिखा-दिखाकर चिढ़ाया करेगाा ।"


"और ये सव होगा इनकी वजह से ।" एक बार फिर उसने चेयर पर बैठे अाई-एस-अाई के चीफ की तरफ इशारा किया ।


"वाकई ।" तुगलक ने कहा…“अगर ये उसे संभालकर रखते तो आज़ हमें यह दिन न देखना पड़ता ।"



' "मैंने तो पहले ही कहा था कि उसे इनके यानी अई.एस.अाई के हवाले मत करों ।" नुसरत बोला----" अपने चार्ज में रखो । सीर्केट सर्विस की कैद में । तुम ही नहीं माने । कहा----अाई-एस-अाई आखिर हमारे मुल्क की महान संस्था है । फिर, आर्मी मदद भी हासिल है इन्हें । छटंकी तो क्या, छटंकी का बाप भी इनकी कैद से फरार नहीं हो सकेगा ।"



"तुमने सुना मियां ।" तुगलक सीधा आई-एस-अाई के चीफ से मुखातिब हुआ…“उसे तुम्हारे चार्ज में रखने का फैसला मेरा था !










पेज नः 136/287


"तुमने सुना मियां ।" तुगलक सीधा आई-एस-अाई के चीफ से मुखातिब हुआ-----“उसे तुम्हारे चार्ज में रखने का फैसला मेरा था ! सिर्फ मेरा !!! मेरे पार्टनर तक की सलाह अलग थी , इसलिए अब तुमसे कम से कम इतना पूछने का राइट तो मिल ही गया कि तुमने नाक क्यों कटबाई ? "


चुप रहा आई.एस॰आई॰ का चीफ ।


कहता भी तो क्या कहता?


यह जानता था…नुसरत तुगलक को सीधे सेना के जनरल और पाकिस्तानी राष्ट्रपति के द्वारा उसके पास भेजा गया है । सबसे पहले तो खुद जनरल ने ही उसे खरी-खोटी सुनाई थी । कहा था कि अगर यह एक कैदी को भी कैदी बनाकर नहीं रख सकता तो उसे आई-एस-आई के चीफ जैसे पद पर बने रहने का कोई हक नहीं है । उसने उसी समय अपने पद से इस्तीफा देने की पेशकश की थी , मगर जनरल ने कहा----" नहीं, तुम्हें सजा हम नहीं, नुसरत-तुगलक मुकर्रर करेंगे । उन्हें भेज़ रहे हैं ।"


और अब ।


नुसरत-तुगलक उसके सामने थे ।

उसे सजा देने जाए थे वे ।


जो हुआ, उस पर मन-ही-मन वह स्वयं 'गिल्टी' था ।


हर सजा भोगने के लिए भी तैयार था मगर, नुसरत-तुगलक न सजा सुना रहे थे न दे रहे थे । वे तो जलील कर रहे उसे । जो शख्स खुद ही अपनी. नाकामी के कारण खीझा हुआ था उसे और ज्यादा जमीन में गाड़े दे रहे थे !!


" जबाब दो मियां ।" उसे चुप देखकर तुगलक ने कहा ----" तुमने हमारी नाक क्यों कटाई ?"


"जो हो चुका है उसे अब मैं बापस तो ला नहीं सकता !" आई.एस.आई का चीफ़ इससे ज्यादा और कह भी क्या सकता था ---- "आप जो भी सजा दे, मैं भुगतने के लिए तेयार हूं ।"



"नाक कटी है मेरी! अब तुम्हीं तय करो----" क्या सजा दी जाए?"



"आप लोग जो भी सजा देंगे, मुझे कबूल होगी ।"



"तुगलक भाई ।" नुसरत ने कहा----“मैं बता सकता हूं इन्हें क्या 'सजा दी जानी चाहिए ।""


"बता ।"



"नाक के बदले नाक ।"



" तुगलक की दो आंखें आई.एस.आई के चीफ की नाक पर केद्रित हो गई!!!



और ......... उनका इरादा भांपते ही चीफ के सम्पूर्ण जिस्म में झुरझुरी -सी दौड़ती चली गई !


!!!!!!









पेज नः 137-138-139/287


"सोचो मिंया , नाक काटकर शक्ल कैसी हो जायेगी इनकी ! अपने नाते -रिश्तेदारों को थोबड़ा तक नहीं पाएंगे ! सारे पाकिस्तान में चर्चा हो जाएगी --- I.S.I के चीफ की नाक छटंकी नः दो ले गया !!!! जीते जी मर जाएंगे बेचारे ! ठीक ही कहा इन्होंने ---- इससे तो बेहतर ये है ये रहें ही नहीं ! खलास कर दिये जायें ! ना रहेंगे ना लोंगों के ताने सुनेंगे !"



"अगर इन्हें नहीं ही रहना है तो केबल एक तरीका है !"


" वह क्या ?"



"इन्हें चुल्लू भर पानी में डूबकर मरना होगा ।"


"ऐसी शर्त क्यों?"

" क्योकि पकिस्तान इनकी इससे ज्यादा "एक्सपेंसिव' मौत 'अफोर्ड’ नहीं कर सकता ।"



"ठीक है ये तो खुद ही कह रहे थे कि शर्मिन्दा है । शर्मदार आदमी को डूबकर मरने के लिए चुल्लू भर पली काफी होता है । अभी लाया ।" कहने के वाद वह दौड़ता हुआ बाथरूम में चला गया ।


. कुछ देर बाद वह चुल्लू में पानी भर लाया ।



लपककर सीधा चीफ़ के नजदीक पहुचा । बोला'--"लीजिए हुजूर । डूबकर मर जाइए इसमें न हींग लगेगी न फिटकरी । रंग भी चोखा आएगा !"



"नहीं मर सके तो मुझे अपने द्वारा मुकर्रर की गई सजा देनी पडेगी ।" कहने के साथ तुगलक भी अपने स्थान से खड़ा हो गया. । मेज की परिक्रमा सी करने के बाद वंह भी चीफ के नजदीक पहुचा । अब चीफ के एक तरफ नुसरत था, दूसरी तरफ तुगलक ।



तुगलक ने अपनी जेब में हाथ डाला । एक चाकू निकल ।

''किर्र . .रं. . .र्र॰. . !"' की आवाज के साथ गरारीदार चाकू खुला तो धूप में रखे आइने की मानिन्द दमक रहे उसके फल को देखकर चीफ के तिरपन कांप गए । चाकू के फल को उसके चेहरे के चारों तरफ़ घुमाते हुए ने तुगलक ने कहा ---- " किसी के साथ जोर-जबरदस्ती करने की कला हमने कभी नहीं सीखी चीफ मियां। आपकी इच्छा का विकल्प आपके सामने है। नुसरत वहन के चुल्लू में अभी तक पानी मोजूद है है या तो इसमें डूबकर कर मर जाइए वरना चाकू से नाक कटवाइए ! ”



"मेरे ख्याल से इसमें डूबकर मरना ही आपके लिये बेहत्तर होगा ।"



नुसरत ने अपना चुल्लू ठीक उसकी अच्छी के सामने कर दिया । थोड़ा मुड़कर तुगलक से बोला-…""चल वे दुर हट ।"



"जब तक चुत्लू में पानी है, तब तक इनके पास पूरा मोका हैं । उधर पानी खत्म हुआ इधर मेरा चाकू चलेगा । चाकू भी साला विदेशी है । सीधा रामपुर से मंगाकर अंटी में लगाया था । विदेशी चाकू से नाक कटेगी बंदापरवर की । पानी को संभाल वो बूंद-बूंद करके टपक रहा ।"



“जल्दी कीजिए हुजूर ।" नुसरत ने कहा ----"चुल्लू का पानी खत्म होने वाला है । खत्म हो गया तो आप देख ही रहे हैं, बडा जालिम है तुगलक । सचमुच आपकी नाक कत्तर डालेगा ।"



"नहीं ।" चीफ़ ने यह समझ में आते ही मर्मान्तक चीख के साथ दोनों हाथों से अपनी नाक ढांप ली कि दोनों सजा के तौर पर उसकी नाक काटने ही यहां अाए हैं ।



“फाउल । ये तो फाउल है नुसरत बहन ।" तुगलक ने कहा…"मेरी नाक कटवाने के बाद अपनी नाक को बचाने की ऐसी कोशिश करने का इन्हें कोई राइट नहीं है । फेंक दे चुल्लू में भरा पानी और जक्ड़ ले इनके हाथ । अब ये अपनी मर्जी से मरने का हक खों चुके है ।"



" ठीक कहा --- तुगलक भैया । अब मैं तुम्हारे साथ हूं।" कहने के साथ नुसरत ने अपने दोनों हाथों से चीफ के हाथ पकड़कर उसके चेहरे से खींचे । चीफ चीख रहा था । मचल रहा था । मगर व्यर्थ । वहाँ कौन था जो उसकी मदद करता । नाक कटी तो एक ह्रदय विदारक चीख पनाह मांगती सी दूर-दूर तक गूंजती चली गई ।

!!!!!!!!!!!







Last edited by kirank1994 : 23rd March 2016 at 05:43 PM.

Reply With Quote
  #43  
Old 22nd February 2016
kirank1994's Avatar
kirank1994 kirank1994 is offline
GUDIYA
 
Join Date: 14th September 2015
Posts: 78,090
Rep Power: 194 Points: 146617
kirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps database
Res41

Reply With Quote
  #44  
Old 22nd February 2016
kirank1994's Avatar
kirank1994 kirank1994 is offline
GUDIYA
 
Join Date: 14th September 2015
Posts: 78,090
Rep Power: 194 Points: 146617
kirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps database
Res42

Reply With Quote
  #45  
Old 22nd February 2016
kirank1994's Avatar
kirank1994 kirank1994 is offline
GUDIYA
 
Join Date: 14th September 2015
Posts: 78,090
Rep Power: 194 Points: 146617
kirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps database
Res43

Reply With Quote
  #46  
Old 22nd February 2016
kirank1994's Avatar
kirank1994 kirank1994 is offline
GUDIYA
 
Join Date: 14th September 2015
Posts: 78,090
Rep Power: 194 Points: 146617
kirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps database
Res44

Reply With Quote
  #47  
Old 22nd February 2016
ishikaaa's Avatar
ishikaaa ishikaaa is offline
:)
Visit my website
 
Join Date: 28th January 2016
Location: DDM,
Posts: 30,772
Rep Power: 77 Points: 55645
ishikaaa has hacked the reps databaseishikaaa has hacked the reps databaseishikaaa has hacked the reps databaseishikaaa has hacked the reps databaseishikaaa has hacked the reps databaseishikaaa has hacked the reps databaseishikaaa has hacked the reps databaseishikaaa has hacked the reps databaseishikaaa has hacked the reps databaseishikaaa has hacked the reps databaseishikaaa has hacked the reps database
Congrats Mam for new story
______________________________
Iss chaahat mein marr jaungi
Main phir bhi tumko chahungi
Dil , Dosti & Masti -- 94 & 95 ( new )

Reply With Quote
  #48  
Old 22nd February 2016
kirank1994's Avatar
kirank1994 kirank1994 is offline
GUDIYA
 
Join Date: 14th September 2015
Posts: 78,090
Rep Power: 194 Points: 146617
kirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps database
Res45

Reply With Quote
  #49  
Old 22nd February 2016
kirank1994's Avatar
kirank1994 kirank1994 is offline
GUDIYA
 
Join Date: 14th September 2015
Posts: 78,090
Rep Power: 194 Points: 146617
kirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps database
Res46

Reply With Quote
  #50  
Old 22nd February 2016
kirank1994's Avatar
kirank1994 kirank1994 is offline
GUDIYA
 
Join Date: 14th September 2015
Posts: 78,090
Rep Power: 194 Points: 146617
kirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps databasekirank1994 has hacked the reps database
Res47

Reply With Quote
Reply Free Video Chat with Indian Girls


Thread Tools Search this Thread
Search this Thread:

Advanced Search

Posting Rules
You may not post new threads
You may not post replies
You may not post attachments
You may not edit your posts

vB code is On
Smilies are On
[IMG] code is On
HTML code is Off
Forum Jump



All times are GMT +5.5. The time now is 07:09 PM.
Page generated in 0.02513 seconds